ज़िन्दगी में यह कुछ चीज़े याद रखिये ।

१. ज्यादा सोचने से आपकी अंदरूनी ख़ुशी कम हो सकती है ।
किसी भी चीज़ के बारे जब हम ज़रुरत से ज्यादा सोचते है तो हमारे मन में चिंता बढ़ने लगती है । ज्यादा सोचने से उस चीज़ का हल तो नहीं निकल पाता पर हमारी अंदरूनी ख़ुशी कम होती है।

२. हर इंसान अलग है और हर एक का सफर भी अलग है ।
हर इंसान में अपनी एक खूबी होती है। कोई गाना अच्छा गाता है तो कोई खाना अच्छा बनाता है । हर कोई चीज़ों को अपनी अपनी तरह से सीखता है । जिस चीज़ में आपका मन है उससे सीखें । यह ज़रूरी नहीं की अगर कोई आपकी उम्र में आपसे बहुत ज्यादा सफल है तो आपको भी उतना ही सफल होना है । हमें पता नहीं होता की कौन किस परिस्थिति में है या था । हर किसी की परिस्थिति अलग है । इसलिए हर किसी के सफल होने का समय भी अलग है । पर अपनी तरफ से मेहनत पूरी करें हमेशा, वह बेकार नहीं जाएगी कभी |


३. हमेशा कुछ न कुछ सीखते रहे
दोस्तों ज़िन्दगी में इतनी सारी चीज़ें है करने के लिए जितनी हम सोच भी नहीं सकते। आपने अगर एक चीज़ सीख ली है और जैसे जैसे आपको खाली समय मिलेगा भविष्य में आप और भी चीज़े सीखते रहे जैसे singing, writing, computers, swimming, table tennis, chess इत्यादि । यह आपको मानसिक रूप से भी बेहतर रखेगा हमेशा ।

४. हमेशा अपने आपको पहले से बेहतर बनाने की कोशिश करें
जैसे आपका कोई छोटा business हो तो उसे बड़ा करने की सोचे । आज हम जैसे जी रहें है २० साल पहले यह सुविधा नहीं थी । कुछ लोगो ने हमेशा बेहतर करनेका सोचा तब ही तो यह हुआ है । इसलिए हमेशा अपने आप को बेहतर बनाने की कोशिश करें।

५. सकारात्मक सोच से ज़िन्दगी अच्छी होने लगती है ।

६. सबके साथ अच्छा बर्ताव करें ।
भले ही आपको कोई पसंद ना हो पर उनसे भी आप बर्ताव अच्छा करें । इससे लोग आपको पसंद करेंगे ।

७. अपने क्रोध को हमेशा काबू में रखने की कोशिश करें
कभी कभी हमें बहुत ज्यादा क्रोध आता है । वह भले ही थोड़े समय के लिए हो पर उसका हमारे मन पर असर काफी समय तक रहता है । कितना भी क्रोध आये पर कभी कुछ ऐसा न करें जिससे आपको बादमे पछताना पड़े ।

८. आप अपने अतीत को बदल नहीं सकते
आप अपने अतीत को बदल नहीं सकते तो उसके बारे में बोहुत सोचना बेकार है । इसलिए हमेशा अपने वर्त्तमान में जिए । जो अतीत है वह जा चूका है और जो भविष्य है वह अभी आया नहीं है तो आप अभी से ही चिंता करेंगे तो खुश रह नहीं पाएंगे ।

Leave a Reply